Monday, September 6, 2010

बदनाम हुए तो क्या हुआ नाम तो हुआ....

पाकिस्तान  के ४ खिलाडी फिक्सिंग की फांस मैं फंस गए हैं... तो वहीँ भारत के कलमाड़ी साहब भी कुछ इसी तरह के आरोपों में घिरे हैं..  लेकिन इस सब से उन खिलाडिओं को या अपने कलमाड़ी जी कोई टेंशन नहीं है.. भाई पब्लिसिटी  तो हो हे रही है न..  बदनाम हुए तो क्या हुआ नाम तो हुआ...  
वैसे भी कितने लोग ऐसे हैं जो लोग किसी अख़बार या किसी न्यूज़ चैनेल मैं  अपनी एक फिक्स जगह बना पाए हैं... आज हर कोई आमेर , आसिफ या बट को जनता है वहीँ अपने कलमाड़ी जी को भी बच्चा  - बच्चा जानने लगा है..यह शोहरत और यह कीर्तिमान कोई अच्छा या बड़ा कम करने से तो मिलेगा नहीं और हाँ ..  इस तह के काम करने के बाद इन जैसे लोगों  लिए रोजगार के भी नए अवसर खुल सकते हैं..   जैसे की कोई टीवी चैनेल  इन्हें  अपने शो मैं बुलाएगा... कुछ नहीं तो बिग बॉस जैसे शो मैं तो इनका  आना १००% पक्का हो जायेगा...   जहाँ यह लोग टीवी पर आकर हर किसी को बता सकेंगे की कैसे कोई मैच या कोई आयोजन फिक्स किया जाता है.. कैसे पैसा बनाया जाता है और कैसे कोई छोटा से छोटा काम भी कई सालों मैं लाखों - करोड़ों रुपये खर्च कर के किया जा सकता है..  भाई ऐसा ज्ञान देने वालों को तो वाकई मैं नेशनल टीवी पर आन चैयेह और अपना ज्ञान बांटना चाहिए .
सलमान बूट हो या आसिफ या आमेर जिस तरह से आजकल टीवी पर इनके हँसते हुए चेहरे और अपने कलमाडी जी का विश्वास से भरा हुआ चेहरा दिखाया जा रहा है उससे तो यही साबित हटा है की इनको अपने किए गए ऐतिहासिक कार्यों  पर गर्व है...  लेकिन उन सब लोगों का क्या जो इन जैसे लोगों के किए गए कार्यों मैओं कमी निकल रहे हैं या इनको सजा देने की मांग कर रहे हैं..." मेरे ख्याल से यह लोग इस बात से ज्यादा चिढ़े हुए हैं की भला इनको इतना मान सामान मिल रहा है और हमसे सिर्फ राय माँगी जा रही है .  बताइए भला उनको सब दे दो और हमको कुछ देना तो दूर राय भी मांग लेते हो...बड़ी ना इंसाफी   है ...
खैर जो भी हो चाहे इन जैसे लोगों का कुछ हो या ना हो...   यह लोग आज एक बहुत बड़ी हस्ती बन चुके है..पूरा संसार आँखें  फाड़ के इनकी  तरफ देख रहा है...की कैसे इनके ऊपर दौलत और शौहरत की बारिश हो रही है और कैसे हम जैसे मेहनती , शरीफ और  भलाई करने वालों को कोई नहीं पूछ रहा है...  मीडिया और तमाम माध्यम इन जैसे लोगों को हाथों हाथ ले रहे है,,,   इससे क्या साबित हो रहा है...  इसे तो साबित यही हो रहा है की..प्रस्सधि पाना है. नाम कमाना है तो कोई लफड़ा कर दो... नाम मिलेगा , दाम मिलेगा और खूब काम भी मिलेगा...  मेरी बातों पर भरोसा नहीं तो खुद ही देखो ना.. संजय दत्त, फरदीन खान , सलमान खान , राहुल महाजन, मोनिका बेदी या शाइनी आहूजा   ....जैसे लोगों को जिन पर कई केस चले और चल भी रहे हैं ...  आज यह लोग शोहरत के आसमान पर बैठे हैं...और तो और कई सारे टीवी चैनेल इन लोगों को दुनिया भर मैं  प्रसिद्द बनाने  मैं लगे है...
  तो कुल मिला के सब बातों का सार तो यही  है भैया की वो दिन गए जब आपको इमानदारी और मेहनत के काम का इनाम मिलता था, आज तो इस तरह के लोगों को  आउट डेटेड कहा जाता है..  चलो अच्छा ही है..  कुछ नया तो सीखने को मिला ... की नाम मत बनाओ ..  बदनाम हो जाओ ताकि नाम खुद ही बन जाये.. पर मैं ऐसा क्या करूँ .. कुछ सलाह दो ना...

No comments: