Monday, December 20, 2010

दुनिया पर एक नजर झटके में !! क्योंकि हर झटका कुछ कहता है....!!

बड़ी ही मजेदार बात है भाई , हमारी फिल्मों के गाने भी अकस्मात् ही हमारे समाज और देश की कथा और व्यथा को  बिना किसी अतिरिक्त प्रयास के या  मकसद के व्यक्त कर देते हैं जैसे आज के एक हिट गाने को लीजिये  , गाने के बोल है की  " जोर का झटका हाय  जोरों से जगा ..हाँ लगा "  लेकिन ये जोर का झटका कुछ ज्यादा ही जोर से  झटके  दे रहा  है , जैसे की आजकल हमारे देश के नेताओं को , मंत्रिओं  , मुख्या मंत्रिओं को  अबिनेताओं को , निर्देशकों को और कई सारे सफल , संपन्न और पहुँच वाले लोगों को ४४० वाट से भी बड़े बड़े झटके लग रहे हैं !
ऐसे में इस गाने की प्रासंगिकता कुछ ज्यादा ही बढ़ जाती  है  यह बात और है की  जिस फिल्म का यह गाना है उसके निर्माता को , कलाकारों को कुछ क्यादा ही जोर का  झटका लग गया तभी तो इस गाने को छोड़  पूरी फिल्म को झटका लग गया !  खैर यह तो पिक्चर की बात है , हकीकत मैं तो कुछ ज्यादा ही झटकेदार पिक्चर चल रही है , कांग्रेस के बेनर तले बन रही नई नई  कहानिओ के पात्र और घटनाएँ  जैसे जैसे बहार आ रहे हैं एक नया झटका देते जा रहे हैं ,  एक आदर्श झटका अशोक चव्हाण देने वाले थे तो उनको ही झटका लग गया , यही हाल 2g  किंग का हुआ झटके से अरब पति बनने चले थे झटका खा के रह गए .
वहीँ कुछ झटका टाटा को  भी  लगा  इस झटके ने कई सरे बड़े बड़े  उद्योग पतिओं को भी झटके से संभलने  का  एक मौका दिया तभी तो  सब उद्योगपति अपनी अपनी फ़ोन लाइन की निगरानी में झटके से लग गए की कहीं उनको धोके से भी  झटका ना लग जाये. वहीँ wikilieaks कांड ने पूरी दुनिया को झटका दे दिया , तो भारत की क्रिकेट टीम को दक्षिण अफ्रीका जाते ही झटका लग गया , जहीर की चोट का नहीं  , बल्कि १३६  रन पर आउट होने का झटका ...लेकिन इन झटकों के बीच में सचिन ने एक झटके से अपना ५०वा शतक पूरा कर दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजों को झटका दे दिया वहीँ इंग्लैंड जो एक झटके से ashesh  को जीतने के सपने देख रहा था उसे ऑस्ट्रेलिया ने झटका दे दिया ...   भाई यह तो दुनिया दारी बातें रह गयी इन बातों से अपने आम आदमी को क्या  लेकिन जब आस पास इतने झटके हो तो   इन सारे झटकों के बीच आम आदमी कैसे ठीक रह सकता है...  हालांकि आम आदमी तो झटक खाने की आदत माँ के पेट से ही सीख के आता  है , मगर  सरकार अपने आम  आदमी की सेहत का पूरा ध्यान रखती है  तभी तो  महंगाई के ज़माने में इस आम आदमी को पयाग खिलने के बहाने नया झटका दे दिया ६० रुपये किलो का झटका...
 तो इस झटके लीला के क्या कहने इन झटकों ने तो पूरा एक पेज भर दिया , कहने को तो काफी है पर करे क्या साइबर में बैठ के और लिखूंगा तो साइबर वाला मुझे भी एक झटका दे डालेगा...
बस क्या  अगली  मुलाकात तक ..   .  संभल के रहिये ..  खुश रहिये और हाँ जिन्दगी के झटकों का आनंद लेते रहिये.          

Deepak singh 
09022960206

No comments: